श्री णमोकार महामंत्र जी

भय और विप्पत्ति को दूर करने वाला सर्वसुखो को प्रदान करने वाला णमोकार महामंत्र जी

जैन धर्म का परम पावन मंगलकारी,अनादिनिधन मंत्र है णमोकार महामंत्र

जी।

इस मंत्र में किसी व्यक्ति विशेष को नमस्कार नहीं किया गया है अपितु इस मंत्र (namokar maha mantra) में गुणों से परिपूर्ण वीतरागी मुद्रा(जिनको नहीं है किसी से भी राग-द्वेष ऐसे सर्वगुणों से परिपूरित महान आत्माओं को नमस्कार किया गया है।

Namokar maha mantra

णमोकार महामंत्र का 108 बार प्रतिदिन जाप करने या स्मरण मात्र से शारीरिक,मानसिक पीड़ा,सर्व रोग-शोक दूर होते है और धन लाभ की प्राप्ति एवं आत्म विशुद्धि को प्राप्त करने में सहायक।

सर्वकार्यों की सिद्धि कराने वाला श्री णमोकार महामंत्र जी

णमोकार महामंत्र के अद्भुत चमत्कार,अतिशय आये दिन लोगो द्वारा सुने जा सकते है।

बिच्छू,साँप,खटमल जैसे जहरीले जंतुओं से बचाने वाला है ये णमोकार महामंत्र जी

अतः इसमें कोई भी संशय नहीं है कि णमोकार महामंत्र जी जीवन की किसी भी समस्याओं से निजात (छुटकारा) दिलाने में पूर्णतः सक्षम है।

जैन शास्त्रों में यह भी वर्णित है कि जो भी मनुष्य इस णमोकार महामंत्र का –

अपने जीवन काल में 8 करोड़ 88 लाख 88 हज़ार 8 सौ 88 बार शुद्ध मन से जाप कर लेता है उसे नियम से ही मोक्ष (पूर्ण सुख का स्थान) प्राप्त होता है।

तो आईये !

जानते है श्री णमोकार महामंत्र जी का अर्थ —

Namokaar Mantra SagarDuniya.com
Namokaar Mantra SagarDuniya.com

चत्तारि मंगलं,अरिहंता मंगलं, सिद्धा मंगलं, साहू मंगलं, केवलि-पण्णत्तो धम्मो मंगलं।

चत्तारि लोगुत्तमा,अरिहंता लोगुत्तमा, सिद्धा लोगुत्तमा, साहू लोगुत्तमा, केवलि-पण्णत्तो धम्मो लोगुत्तमो।

चत्तारि सरणं पव्वज्जामि, अरिहंते सरणं पव्वज्जामि, सिद्धे सरणं पव्वज्जामि, साहू सरणं पव्वज्जामि, केवलि-पण्णत्तं धम्म सरणं पब्बज्जामि।

इस णमोकार महामंत्र में 5 पद और 35 अक्षर है। इस महामंत्र को 84 लाख मन्त्रों का राजा कहा गया है।

Namokaar Mantra Hai Nyaara |
Lata Mangeshkar | Rajendra Jain | Full Audio Song

Namokar Mantra in Different Tunes

Namokar mantra ringtone

Navkar Mantra Dhun – Siddhagiri Na Shikharo Bole | Jain Stavan by Amey Date |

श्री आदिनाथ जी चालीसा (जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर)