शाम से आज सांस भारी है बे-क़रारी सी बे-क़रारी है-गुलज़ार

शाम से आज सांस भारी है बे-क़रारी सी बे-क़रारी है-गुलज़ार शाम से आज सांस भारी है बे-क़रारी सी बे-क़रारी है आप के बाद हर…

Read More

जगजीत सिंह जी की बेहतरीन 10 गज़ले

जगजीत सिंह जी की बेहतरीन 10 गज़ले आवाज़ के जादूगर,अपनी दर्द भरी आवाज से हिंदी ग़ज़लों को और भी खूबसूरत बनाने वाले जगजीत सिंह…

Read More

error: Content is protected !!