सामायिक पाठ – Jain Samayik Path (Prem bhav ho with pdf file Hindi english font)

Jain Samayik Path ( Prem Bhav Ho Sab Jivon Se)

प्रेम भाव हो सब जीवों से, गुणी जनों में हर्ष प्रभो |
करुणा स्तोत्र बहे दुखियों पर, दुर्जन में मध्यस्थ विभो ||1||
prem bhaav ho sab jeevon se, gunee janon mein harsh prabho |
karuna stotr bahe dukhiyon par, durjan mein madhyasth vibho ||1||


यह अनंत बल शील आत्मा, हो शरीर से भिन्न प्रभो |
ज्यों होती तलवार म्यान से, वह अनंत बल दो मुझको ||2||

yah anant bal sheel aatma, ho shareer se bhinn prabho |
jyon hotee talavaar myaan se, vah anant bal do mujhako ||2||


सुख दुःख बैरी बन्धु वर्ग में, कांच कनक में समता हो |
वन उपवन प्रासाद कुटी में, नहीं खेद नहीं ममता हो ||3||
sukh duhkh bairee bandhu varg mein, kaanch kanak mein samata ho |
van upavan praasaad kutee mein, nahin khed nahin mamata ho ||3||


Jain Samayik Path Lyrics in Hindi 

जिस सुन्दरतम पथ पर चलकर, जीते मोह मान मन्मथ |
वह सुंदर पथ ही प्रभु मेरा, बना रहे अनुशीलन पथ ||4||
jis sundaratam path par chalakar, jeete moh maan manmath |
vah sundar path hee prabhu mera, bana rahe anusheelan path ||4||


एकेंद्रिय आदिक प्राणी की, यदि मैंने हिंसा की हो |
शुद्ध हृदय से कहता हूँ वह, निष्फल हो दुष्कृत्य प्रभो ||5||
ekendriy aadik praanee kee, yadi mainne hinsa kee ho |
shuddh hrday se kahata hoon vah, nishphal ho dushkrty prabho ||5||


मोक्ष मार्ग प्रतिकूल प्रवर्तन, जो कुछ किया कषायों से |
विपथ गमन सब कालुष मेरे, मिट जावे सद्भावों से ||6||
moksh maarg pratikool pravartan, jo kuchh kiya kashaayon se |
vipath gaman sab kaalush mere, mit jaave sadbhaavon se ||6||


Jain Samayik Path English Lyrics 

चतुर वैद्य विष विक्षत करता, त्यों प्रभु! मैं भी आदि उपांत |
अपनी निंदा आलोचन से, करता हूँ पापों को शांत ||7||
chatur vaidy vish vikshat karata, tyon prabhu! main bhee aadi upaant |
apanee ninda aalochan se, karata hoon paapon ko shaant ||7||


सत्य अहिंसा अदिक व्रत में भी, मैंने हृदय मलीन किया |
व्रत विपरीत प्रवर्तन करके, शीलाचरण विलीन किया ||8||
saty ahinsa adik vrat mein bhee, mainne hrday maleen kiya |
vrat vipareet pravartan karake, sheelaacharan vileen kiya ||8||


कभी वासना की सरिता का, गहन सलिल मुझ पर छाया |
पी-पीकर विषयों की मदिरा, मुझमें पागलपन आया ||9||
kabhee vaasana kee sarita ka, gahan salil mujh par chhaaya |
pee-peekar vishayon kee madira, mujhamen paagalapan aaya ||9||


Samayik path pdf in English

मैंने छली और मायावी, हो असत्य आचरण किया |
परनिंदा गाली चुगली जो, मुंह पर आया वमन किया ||10||
mainne chhalee aur maayaavee, ho asaty aacharan kiya |
paraninda gaalee chugalee jo, munh par aaya vaman kiya ||10||


निरभिमान उज्ज्वल मानस हो, सदा सत्य का ध्यान रहे |
निर्मल जल की सरिता सदृश, हिय में निर्मल ज्ञान बहे ||11||
nirabhimaan ujjval maanas ho, sada saty ka dhyaan rahe |
nirmal jal kee sarita sadrsh, hiy mein nirmal gyaan bahe ||11||


मुनि चक्री शक्री में हिय में, जिस अनंत का ध्यान रहे |
गाते वेद पुराण जिसे वह, परम देव मम हृदय रहे ||12||
muni chakree shakree mein hiy mein, jis anant ka dhyaan rahe |
gaate ved puraan jise vah, param dev mam hrday rahe ||12||


Jain Samayik Path 

दर्शन ज्ञान स्वभावी जिसने, सब विकार ही वमन किये |
परम ध्यान गोचर परमातम, परम देव मम हृदय रहे ||13||
darshan gyaan svabhaavee jisane, sab vikaar hee vaman kiye |
param dhyaan gochar paramaatam, param dev mam hrday rahe ||13||


जो भव दुःख का विध्वंसक है, विश्व विलोकी जिसका ज्ञान |
योगी जन के ध्यान गम्य वह, बसे हृदय में देव महान ||14||
jo bhav duhkh ka vidhvansak hai, vishv vilokee jisaka gyaan |
yogee jan ke dhyaan gamy vah, base hrday mein dev mahaan ||14||


मुक्ति मार्ग का दिग्दर्शक है, जनम मरण से परम अतीत |
निष्कलंक त्रैलोक्यदर्शी वह, देव मम हृदय समीप ||15||
mukti maarg ka digdarshak hai, janam maran se param ateet |
nishkalank trailokyadarshee vah, dev mam hrday sameep ||15||


Samayik Path Hindi-English

निखिल विश्व के वशीकरण वे, राग रहे न द्वेष रहे |
शुद्ध अतीन्द्रिय ज्ञानस्वरूपी, परम देव मम हृदय रहे ||16||
nikhil vishv ke vasheekaran ve, raag rahe na dvesh rahe |
shuddh ateendriy gyaanasvaroopee, param dev mam hrday rahe ||16||


देख रहा जो निखिल विश्व को, कर्म कलंक विहीन विचित्र |
स्वच्छ विनिर्मल निर्विकार वह, देव करे मम हृदय पवित्र ||17||
dekh raha jo nikhil vishv ko, karm kalank viheen vichitr |
svachchh vinirmal nirvikaar vah, dev kare mam hrday pavitr ||17||


कर्म कलंक अछूत न जिसका, कभी छु सके दिव्य प्रकाश |
मोह तिमिर का भेद चला जो, परम शरण मुझको वह आप्त ||18||
karm kalank achhoot na jisaka, kabhee chhu sake divy prakaash |
moh timir ka bhed chala jo, param sharan mujhako vah aapt ||18||


सामायिक पाठ – Samayik Path with Pdf File

जिसकी दिव्य ज्योति के आगे, फीका पड़ता सूर्य प्रकाश |
स्वयं ज्ञानमय स्व-पर प्रकाशी, परम शरण मुझको वह आप्त ||19||
jisakee divy jyoti ke aage, pheeka padata soory prakaash |
svayan gyaanamay sv-par prakaashee, param sharan mujhako vah aapt.


जिसके ज्ञान रूप दर्पण में, स्पष्ट झलकते सभी पदार्थ |
आदि अंत से रहित शांत शिव, परम शरण मुझको वह आप्त ||20||
jisake gyaan roop darpan mein, spasht jhalakate sabhee padaarth |
aadi ant se rahit shaant shiv, param sharan mujhako vah aapt ||20||


जैसे अग्नि जलाती तरु को, तैसे नष्ट हुए स्वयमेव |
भय विषाद चिंता नहीं जिनको, परम शरण मुझको वह देव ||21||
jaise agni jalaatee taru ko, taise nasht hue svayamev |
bhay vishaad chinta nahin jinako, param sharan mujhako vah dev ||21||


Jain Path Samayik 

तृण चौकी शिल शैल शिखर नहीं, आत्म समाधि के आसन |
संस्तर, पूजा, संघ-सम्मिलन, नहीं समाधि के आसन ||22||
trn chaukee shil shail shikhar nahin, aatm samaadhi ke aasan |
sanstar, pooja, sangh-sammilan, nahin samaadhi ke aasan ||22||


इष्ट वियोग अनिष्ट योग में, विश्व मनाता है मातम |
हेय सभी हैं विषय वासना, उपादेय निर्मल आतम ||23||
isht viyog anisht yog mein, vishv manaata hai maatam |
hey sabhee hain vishay vaasana, upaadey nirmal aatam ||23||


बाह्य जगत कुछ भी नहीं मेरा

बाह्य जगत कुछ भी नहीं मेरा, और न बाह्य जगत का मैं |
यह निश्चय कर छोड़ बाह्य को, मुक्ति हेतु नित स्वस्थ रमें ||24||
baahy jagat kuchh bhee nahin mera, aur na baahy jagat ka main |
yah nishchay kar chhod baahy ko, mukti hetu nit svasth ramen ||24||


Hindi Samayik path 

अपनी निधि तो अपने में है, बाह्य वस्तु में व्यर्थ प्रयास |
जग का सुख तो मृग तृष्णा है, झूठे हैं उसके पुरुषार्थ ||25||
apanee nidhi to apane mein hai, baahy vastu mein vyarth prayaas |
jag ka sukh to mrg trshna hai, jhoothe hain usake purushaarth ||25||


अक्षय है शाश्वत है आत्मा, निर्मल ज्ञान स्वभावी है |
जो कुछ बाहर है, सब पर है, कर्माधीन विनाशी है ||26||
akshay hai shaashvat hai aatma, nirmal gyaan svabhaavee hai |
jo kuchh baahar hai, sab par hai, karmaadheen vinaashee hai ||26||


तन से जिसका ऐक्य नहीं है, सुत तिय मित्रों से कैसे |
चर्म दूर होने पर तन से, रोम समूह कैसे रहे ||27||
tan se jisaka aiky nahin hai, sut tiy mitron se kaise |
charm door hone par tan se, rom samooh kaise rahe ||27||


जैन सामायिक पाठ हिंदी

महाकष्ट पाता जो करता, पर पदार्थ जड़ देह संयोग |

मोक्ष महल का पथ है सीधा, जड़-चेतन का पूर्ण वियोग ||28||
mahaakasht paata jo karata, par padaarth jad deh sanyog |
moksh mahal ka path hai seedha, jad-chetan ka poorn viyog ||28||


जो संसार पतन के कारण, उन विकल्प जालों को छोड़ |
निर्विकल्प निर्द्वन्द आत्मा, फिर-फिर लीन उसी में हो ||29||
jo sansaar patan ke kaaran, un vikalp jaalon ko chhod |
nirvikalp nirdvand aatma, phir-phir leen usee mein ho ||29||


स्वयं किये जो कर्म शुभाशुभ, फल निश्चय ही वे देते |
करे आप, फल देय अन्य तो स्वयं किये निष्फल होते ||30||
svayan kiye jo karm shubhaashubh, phal nishchay hee ve dete |
kare aap, phal dey any to svayan kiye nishphal hote ||30||


जैन सामायिक पाठ हिंदी

अपने कर्म सिवाय जीव को, कोई न फल देता कुछ भी |
“पर देता है” यह विचार तज स्थिर हो, छोड़ प्रमादी बुद्धि ||31||
apane karm sivaay jeev ko, koee na phal deta kuchh bhee |
“par deta hai” yah vichaar taj sthir ho, chhod pramaadee buddhi ||31||


निर्मल, सत्य, शिवं सुंदर है, अमित गति वह देव महान |
शाश्वत निज में अनुभव करते, पाते निर्मल पद निर्वाण ||32||
nirmal, saty, shivan sundar hai, amit gati vah dev mahaan |
shaashvat nij mein anubhav karate, paate nirmal pad nirvaan ||32||


Jain Path Jain Darshan

इन बत्तीस पदों से कोई, परमातम को ध्याते हैं |
साँची सामायिक को पाकर, भवोदधि तर जाते हैं ||33||
in battees padon se koee, paramaatam ko dhyaate hain |
saanchee saamaayik ko paakar, bhavodadhi tar jaate hain ||33||

। सामायिक पाठ-Samayik Path सम्पूर्णम। 

Samayik path pdf  Downlaod Now

Samayik path Pdf free


बारह भावना (कवि मंगतराय जी ) कहाँ गए चक्री जिन जीता। …..हिन्दी में पढ़े