मंगलवार को हनुमान जी को प्रसन्‍न करने के लिए ये उपाय करें

मंगलवार को हनुमान जी को प्रसन्‍न करने के लिए ये उपाय करें
मंगलवार को हनुमान जी को प्रसन्‍न करने के लिए ये उपाय करें

मंगलवार को हनुमान जी को प्रसन्‍न करने के लिए ये उपाय करें पर ऐसा बिल्‍कुल ना करें !

ये प्रमुख उपाय आपकी हर मनोकामना पूरी कर सकते हैं और सभी कष्टों का निवारण कर सकते हैं। पर कुछ ऐसी बातें है जो कहते है मंगलवार के दिन नहीं करना चाहिए।…

हनुमानजी मंगलवार के देव माने जाते हैं। हनुमानजी की पूजा सबसे जल्दी मनोकामनाएं पूर्ण करने वाली मानी गई है।

इस दिन हनुमानजी को प्रसन्न करने के लिए विशेष उपाय करे तो कुछ ही समय में आपकी किस्मत बदल सकती है। ये खास उपाय आपकी हर मनोकामना पूरी कर सकते हैं और सभी कष्टों का निवारण कर सकते हैं।

पर कुछ ऐसी बातें है जो कहते है मंगलवार के दिन नहीं करना चाहिए।

मंगलवार के दिन राम मंदिर में जाएं। हनुमान जी के मस्तक का सिंदूर दाहिने हाथ के अंगूठे से लेकर सीता माता के श्री रूप के श्री चरणों में लगा दें। अपनी मनोकामना पूरी करने के लिए प्रार्थना करें।

मंगलवार की सुबह स्नान करने के बाद बड़ के पेड़ का एक पत्ता तोड़ें और इसे साफ पानी से धो लें। अब इस पत्ते को कुछ देर हनुमानजी के सामने रखें।

इसके बाद इस पर केसर से श्रीराम लिखें। अब इस पत्ते को अपने पर्स में रख लें। ऐसा माना जाता है कि इससे पर्स में पैसे बने रहते हैं।

हनुमान जी की कृपा पाने के लिए मंगलवार के दिन व्रत करके शाम के समय बूंदी का प्रसाद बांटने से भी पैसों की तंंगी दूर हो जाती है।

शनिवार के दिन हनुमान जी के मन्दिर में जाएं। उनके कंधों पर से सिन्दूर लाकर नजर लगे व्यक्ति को लगाएं। नजर का प्रभाव समाप्त हो जाता है।

मंगलवार को शाम के समय हनुमान जी को केवड़े का इत्र व गुलाब की माला चढ़ाएं। हनुमान जी को खुश करने का यह सबसे सरल उपाय है।

जीवन की समस्त समस्याओं के निवारण के लिए हनुमान जी के मंदिर में जाएं और राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करें।

मंगलवार की शाम को हनुमान मंदिर में जाएं। एक सरसों के तेल का और एक शुद्ध घी का दीपक जलाएंं। वहीं बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ करें।

हनुमान जी की कृपा पाने का ये एक अचूक उपाय है।

मंगलवार के दिन हनुमानजी के पैरों में फिटकरी रखें। जिन्हें बुरे सपने आते हों वे अपने सिरहाने फिटकरी रखें। बुरे सपने नहीं आएंगे।

यदि कोई व्यक्ति पैसों की तंगी का सामना करना रहा है तो उसे प्रति मंगलवार और शनिवार को पीपल के 11 पत्तों का यह उपाय अपनाना चाहिए।

मंगलवार और शनिवार को पीपल के 11 पत्तों का यह उपाय अपनाना चाहिए।

मंगलवार और शनिवार को ब्रह्म मुहूर्त में उठें। इसके बाद नित्य कर्मों से निवृत्त होकर किसी पीपल के पेड़ से 11 पत्ते तोड़ लें। ध्यान रखें पत्ते पूरे होने चाहिए, कहीं से टूटे या खंडित नहीं होने चाहिए।

इन 11 पत्तों पर स्वच्छ जल में कुमकुम या अष्टगंध या चंदन मिलाकर इससे श्रीराम का नाम लिखें। नाम लिखते समय हनुमान चालीसा का पाठ करें। जब सभी पत्तों पर श्रीराम नाम लिख लें, उसके बाद राम नाम लिखे हुए इन पत्तों की एक माला बनाएं।

इस माला को किसी भी हनुमानजी के मंदिर जाकर वहां बजरंगबली को अर्पित करें। इस प्रकार यह उपाय करते रहें। कुछ समय में सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे।

राम नाम का जाप,,,,जैसा की हम सभी जानते हैं की हनुमान जी भगवान् श्री राम के सबसे बड़े भक्त थे| इस बात का प्रमाण उन्होंने अपनी छाती फाड़ कर दिया था जब उन्होंने अपनी छाती फाड़ी तो अन्दर उनके ह्रदय में श्री राम और माता सीता की छवि मौजूद थी|

अगर कोई प्रतिदिन राम नाम का जाप सच्चे ह्रदय से करता है तो उसे हनुमान जी की विशेष कृपा प्राप्त होती है|

केसरिया सिन्दूर और घी,,,हनुमान जी को केसरिया सिन्दूर तथा घी अति प्रिये है और अगर कोई भक्त मंगलवार को हनुमान जी पर केसरिया सिन्दूर और घी का चढ़ावा चढ़ाता है तो उसे निरोगी काया यानि की रोग बीमारी से मुक्ति मिल जाती है|

हनुमान चालीसा और सुन्दरकाण्ड का पाठ,,,,हनुमान जी की पूजा किसी भी तरह से की जा सकती है परन्तु हनुमान चालीसा का पाठ और सुन्दरकाण्ड का पाठ करने पर भक्त के ऊपर जल्द ही कृपा बरसनी शुरू हो जाती है|

आप को भी जब कोई डर सताता होगा तो अपने आप ही हनुमान चालीसा याद आ जाती होगी क्योंकि बचपन से ही हनुमान चालीसा हमें हर डर से लड़ने के ताकत देता आया है| उसी प्रकार सुन्दर कांड का पाठ करने से बड़ी से बड़ी बाधा दूर हो जाती है|

राम चोला का चढ़ावा,,,हनुमान जी को राम इतने प्रिय है की उनके नाम का चोला जिस पर राम का नाम लिखा हो भी चढ़ाया जाए तो उन्हें बड़ी प्रसन्नता होती है|

अगर कोई भक्त केसरिया सिन्दूर और घी की तरह ही हनुमान जी पर राम चोला चढ़ाता है तो हनुमान जी सदा ही उसकी रक्षा उसी प्रकार करते हैं जैसे कोई चोला अपने ओढने वाले को धुप और ठंढ से बचाता है|

दान देना और भोजन कराना,,,,ऐसे तो जरुरतमंदों को दान देना और गरीब तथा भूखे व्यक्ति अथवा जानवर को भोजन कराना हमेशा ही पुण्य का काम माना गया है

परन्तु अगर ऐसे मनुष्य को जो वाकई में जरूरतमंद है को मंगलवार को दान दिया जाए अथवा किसी भूखे मनुष्य या फिर जानवर और पक्षी को मंगलवार के दिन भोजन कराया जाए तो हनुमान जी उस पर बड़े प्रसन्न होते हैं और उस दानी का भण्डार हमेशा ही भरा रहता है उसका भण्डार कभी खाली नहीं होता है|

परन्तु कुछ ऐसी बातें हैं जिसके लिए कहा जाता है हि मंगलवार के दिन ऐसा नहीं करना चाहिए।

मंगल ग्रह क्रूर ग्रह भी होता है। यदि आपके हाथ से मंगलवार के दिन कुछ चूक होती है तो उसका भरी प्रभाव आपके घर परिवार पर पड़ता है । इसलिए कुछ बातों का ध्यान मंगलवार को रखें जिससे शुभ प्रभाव हो।

लोगों में ऐसी मानता है कि मंगलवार को अपने बाल व नाख़ून ना काटे । मंगलवार के धार वाली चीजे ना ख़रीदे मतलब चाकू, कैची आदि।

मंगलवार के दिन दक्षिण दिशा में कोई भी धार वाली चीज ना रखे, कैंची अथवा चाकू।. मंगलवार के दिन रसोई घर खाना बनाते समय रोटी या सब्जी को जलने ना दे।

सबसे महत्वपूर्ण बात मंगलवार के दिन किसी भी प्रकार का मांसाहार घर में न पकाये। मंगलवार के दिन हनुमान जी को गुड़ का भोग लगाये और लाल गाय को खिलाएं। मंगलवार के दिन हनुमान जी के मंदिर जाए और मूर्ति पर चमेली के तेल का दीपक करें।

मंगलवार के दिन अगर हो तो लाल रंग का रूमाल अपनी जेब में रखें। मंगलवार के दिन किसी गरीब मजदूर को चाय पिलाएं और खाना खिलाये । इस दिन कोशिश करें गरीब लोगो और बालको में मिठाई बांटें।

क्या आपको हिंदी शायरी कविता पढ़ना पसन्द है ?